दुनिया का पहला हाईटेक स्टेडियम मोहाली में - Bichhu.com

दुनिया का पहला हाईटेक स्टेडियम मोहाली में

World's first hitech stadium in Mohali

बरसात हुई तो भी होगा क्रिकेट मैच…

नईदिल्ली (बिच्छू डॉट कॉम)। अभी तक मोटेरा के क्रिकेट स्टेडियम को ही विश्व का सबसे हाईटेक क्रिकेट मैदान माना जाता है लेकिन अब भारत में एक ऐसा क्रिकेट स्टेडियम बनने जा रहा है जो पूरी दुनिया में अपनी तरह का सबसे हाईटेक स्टेडियम होगा….. खास बात यह है कि अगर बरसात भी होती है तो भी यहां क्रिकेट का शो मस्ट गो ऑन रहेगा। …मार्च 2021 तक पूरी तरह तैयार होने वाले इस स्टेडियम में अगले टी20 विश्व कप के मैचों का लुत्फ उठाया जा सकता है। 

भारत में होने वाले मैचों में अब तक बारिश खलल डालती आई है और देश में एक भी ऐसा स्टेडियम नहीं है, जिसमें छत हो और मैच जारी रहे, लेकिन अब यह समस्या जल्द खत्म हो जाएगी। ऐसा इसीलिए क्योंकि पंजाब क्रिकेट संघ द्वारा चंडीगढ़ में बनाया जा रहा दुनिया का पहला हाईटेक स्टेडियम जल्द बनकर तैयार होगा। यहां तक कि मोटेरा में बने दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम में भी ये सुविधा नहीं है, जिसमें बारिश में मैच का आयोजन किया जा सके। 

मुल्लापुर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम को ग्रीन बिल्डिंग कांसेप्ट के तहत तैयार किया गया है। 150 करोड़ रुपये की लागत से आठ लाख स्क्वायर फीट में बना यह स्टेडियम मोहाली के आइएस बिंद्रा स्टेडियम से तीन गुना बड़ा है। दुनिया के बाकी हाईटेक स्टेडियमों के मुकाबले ये थोड़ा अलग है और विषम परिस्थितियों में भी यहां मैच आयोजित किए जा सकते हैं। 

भविष्य की जरूरतों के हिसाब से बनाया जा रहा यह क्रिकेट स्टेडियम दुनिया का सबसे हाईटेक क्रिकेट स्टेडियम है। इसमें बिजली की आपूर्ति सोलर सिस्टम से पूरी होगी। रेन वाटर हार्वेस्टिंग से पानी की आपूर्ति की जाएगी। इसके अलावा इस्तेमाल किए गए पानी को भी दोबारा इस्तेमाल किया जाएगा। हरियाली के लिए खासतौर पर पेड़ लगाए गए हैं। स्टेडियम में स्पेशल ड्रेनेज सिस्टम लगाया गया है, जितनी भी बारिश हो, मैच बाधित नहीं होगा। बारिश बंद होते ही पिच आधे घंटे में खेलने के लिए तैयार होगी। दर्शक धूप व बारिश से बचे रहेंगे, इसके लिए दर्शक दीर्घा में पारदर्शी छत लगाई जा रही हैं।

पंजाब क्रिकेट संघ की तरफ से बनाए जा रहे इस स्टेडियम का काम 90 फीसद तक पूरा हो चुका है। स्टेडियम निर्माण कार्य अगस्त 2020 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन लॉकडाउन की वजह से इसका निर्माण कार्य धीमा हुआ है। सीईओ दीपक शर्मा ने बताया कि हम मार्च 2021 तक तमाम निर्माण कार्य पूरा कर लेंगे। अगर यह स्टेडियम मार्च तक बनकर तैयार हो जाता है तो फिर अगले साल भारत में होने वाले टी20 वर्ल्र्ड कप के कुछ मैच यहां भी आयोजित हो सकते हैं।

इस अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में सुविधाओं का भी पूरा ध्यान रखा गया है। इसमें 30 कॉरपोरेट बॉक्स हैं, जो कि अभी तक भारत के किसी भी स्टेडियम में नहीं है। हर कॉरपोरेट बॉक्स में 60 सीटें होंगी। बड़े-बड़े कॉरपोरेट घराने अपने लिए इन्हें 10 से 20 साल तक बुक करवा सकते हैं। दर्शक क्षमता को देखा जाए तो इसमें कुल 36 हजार लोग एक साथ बैठकर मैच का लुत्फ उठा सकते हैं। 

अंतरराष्ट्रीय पिच क्यूरेटर दलजीत सिंह बताते हैं कि यह देश का ऐसा इकलौता क्रिकेट स्टेडियम है, जिसमें सात अंतरराष्ट्रीय स्तर की पिच तैयार की गई हैं। हर पिच पर अंतरराष्ट्रीय स्तर के मैच हो सकते हैं। उम्मीद थी कि इस सत्र में इस स्टेडियम में रणजी मैच हो सकते हैं, लेकिन कोरोना महामारी के चलते अभी घरेलू सत्र को लेकर स्थिति साफ नहीं है। भविष्य में तमाम आइपीएल और अंतरराष्ट्रीय मैच इसी स्टेडियम में होंगे, क्योंकि इसमें पार्किंग और ट्रैफिक संबंधी कोई दिक्कत नहीं होगी। यहां एक साथ 1640 गाड़ियों को पार्क किया जा सकता है।   

Related Articles