विस्तार पर बैठकों का दौर-दौरा, शपथ एक जुलाई को संभव - Bichhu.com

विस्तार पर बैठकों का दौर-दौरा, शपथ एक जुलाई को संभव

सिंधिया का कल भोपाल दौरा रद्द, यूपी की राज्यपाल आनंदी बेन भी नहीं आएंगी

भोपाल, बिच्छू डॉट कॉम। मध्य प्रदेश के बहुप्रतीक्षित शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार पर पेंच फंसता ही जा रहा है। कैबिनेट में नए मंत्रियों के नामों पर पिछले 24 घंटों से बैठकों का दौर जारी है। सूत्रों की माने को अधिकतर नामों पर सहमति के बीच कुछ नामों को लेकर पेंच फंसा हुआ है। इन नामों में कुछ नाम शिवराज सरकार के पिछले कार्यकाल में अच्छे विभागों के मंत्रियों के भी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इन मंत्रियों को मंत्रिमंडल में शामिल करने के लिए अड़े हुए है। वहीं केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी कुछ नामों पर अपनी बात मनवाना चाहते है। सरकार और संगठन के बीच नामों के मंथन के बीच सोमवार को प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा को भी अचानक दिल्ली बुलवाया गया है। वहीं पार्टी सूत्रों की माने इस बार मंत्रिमंडल में कई चौकाने वाले नाम शामिल होंगे, वहीं कई दिग्गज नेताओं की छंटनी भी तय मानी जा रही है। मंथन के बीच यह भी खबर है कि विस्तार एक दिन टल सकता है और अब नए मंत्री कल के बजाय एक जुलाई को शपथ ले सकते है।

दिल्ली में पार्टी सूत्रों की माने तो संभावित मंत्रिमंडल विस्तार में पेंच फंसने की वजह से ग्वालियर-चंबल के सभी प्रमुख नेताओं को दिल्ली बुलाया गया है। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया पहले से ही दिल्ली में मौजूद हैं, और नरोत्तम मिश्रा भी दिल्ली पहुंच चुके है। मंत्रिमंडल विस्तार का सबसे असर प्रदेश की 24 सीटों पर होने वाले विधानसभा उपचुनाव पर भी पड़ेगा। ऐसे में सभी दिग्गज नेता अपने-अपने विश्वसनीय विधायकों को मंत्री पद दिलाने में जुटे है। वहीं संभावित सूची से जिन विधायकों की छंटनी की जा रही है, वह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के विश्वसनीय पूर्व मंत्रियों के नाम है। सूत्रों की मानें तो ग्वालियर चंबल में सबसे ज्यादा उपचुनाव की 16 सीट होने की वजह से मंत्रिमंडल विस्तार में वहां के गणित को साधने पर खासतौर से चर्चा की जा रही है। मंत्रिमंडल विस्तार के बाद बीजेपी के अपने नेताओं की संभावित नाराजगी दूर करने पर भी मंथन हो रहा है।

पिछले 24 घंटों से चल रहा बैठकों का दौर
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष वी डी शर्मा और संगठन महामंत्री सुहास भगत के साथ रविवार शाम को ही दिल्ली पहुंच गए थे। जहां रविवार देश शाम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पहले बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा फिर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात हुई थी, उसके बाद देर रात गृह मंत्री अमित शाह से मिले थे। जहां विस्तार को लेकर दोनों के बीच करीब 2 घंटे तक विचार हुआ। वहीं आज भी सुबह से ही दिल्ली में बैठकों के दौर जारी रहा। इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं राज्ससभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया से भी मुलाकात की।

मंत्रिमंडल की संभावित सूची
पार्टी सूत्रों की माने तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पास जो अंतिम सूची है उसमें भारतीय जनता पार्टी से गोपाल भार्गव, विजय शाह, गौरीशंकर बिसेन, यशोधरा राजे सिंधिया, राजेंद्र शुक्ला, रामपाल सिंह, भूपेंद्र सिंह ठाकुर, प्रेम सिंह पटेल, यशपाल सिंह सिसोदिया, चेतन कश्यप, मोहन यादव, अरविंद सिंह भदोरिया, विश्वास सारंग, रामेश्वर शर्मा, रमेश मेंदोला और उषा ठाकुर के नाम हैं, जबकि इसी सूची में सिंधिया खेमे से इमरती देवी, प्रभु राम चौधरी, इंदल सिंह कंसाना, बिसाहूलाल सिंह, राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, प्रद्युम्न सिंह तोमर, महेंद्र सिंह सिसोदिया, हरदीप सिंह डंग और रणवीर जाटव के नाम शामिल हैं।

Related Articles