कोरोना ने लंबी की चिंता की लकीरें - Bichhu.com

कोरोना ने लंबी की चिंता की लकीरें

नगीन बारकिया

कोरोना वायरस के कहर ने लोगो के चेहरों पर चिंता की लकीरें लंबी लंबी कर दी है। देश दुनिया के किसी भी हिस्से से कोरोना से राहत मिलने की खबरें बहुत ही कम सुनाई देती है। संख्या लाखों को पार कर करोड़ में पहुंच चुकी है। हमारे देश में दिल्ली मुंबई जैसे महानगर को तो मानो कोरोना ने जकड़ ही लिया है। कोलकोता के बारे में कहा जा रहा है कि वहां सामुदायिक ट्रांसमिशन शुरू होने का खतरा पैदा हो गया। यही बात दिल्ली के लिए भी कही जा रही है। पिछले करीब दस दिनों में जब से दिल्ली में टेस्टिंग को बढ़ाया गया है तभी से हर रोज तीन हजार से अधिक मामले सामने आ रहे हैं। हालात ये हो गए हैं कि मौजूदा वक्त में दिल्ली में करीब चीन के जितने कोरोना वायरस के मामले हो गए हैं। रविवार रात को जारी दिल्ली सरकार के मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक, दिल्ली में अब कोरोना वायरस के कुल 83077 मामले हैं। इनमें से करीब 27 हजार मामले एक्टिव हैं, जबकि अब तक राजधानी में 2623 लोगों की मौत हो चुकी है। अब अगर चीन से तुलना करें, तो रविवार तक चीन में कोरोना वायरस के कुल मामले 83,512 हैं जो दिल्ली से कुछ ही ज्यादा हैं और सोमवार को ये आंकड़ा भी पार हो सकता है. वहीं चीन में अबतक इस महामारी की वजह से कुल 4600 लोगों की जान चली गई है। इसीलिए इस समय कोरोना से बचकर रहना अत्यंत जरूरी है। लॉकडाउन में यह खतरा उतना नहीं था क्योंकि तब लोग नियमों का पालन करने के लिए मजबूर थे लेकिन अब अनलाक में स्थिति बदल गई है और व्यक्ति को मनमर्जी का करने की छूट मिल गई है लेकिन वह यह भूल गया कि कोरोना का भूत अभी उसके पीछे साये की तरह मौजूद है।

चीन पर नीतीश का दाव
राजग नेता और बिहार के मुखयमंत्री नीतीश कुमार ने चीनी उत्पादनों के बहिष्कार के लिए अपनी ओर पहल करते हुए सरकार के उन दो टेंडरों को निरस्त कर दिया जिसमें संबेधित कंपनियों के पार्टनर चीनी थे। यह टेंडर पटना में बनाए जाने वाले ब्रिज का था। हालाकि इन कंपनियों को अपने चीनी पार्टनरों को बदलने का अवसर दिया गया लेकिन कंपनी ने इस मौके का लाभ नहीं उठाया तो इसका खामियाजा भी उन्हें उठाना पड़ा। उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र सरकार ने भी चीनी कंपनी के साथ हुए पांच हजार करो़ड़ के एमओयू पर रोक लगा दी है और बीएसएनएल तथा रेलवे भी इसी तरह का कदम उठा चुके हैं।

कोरोनील पर बोले डॉ. हर्षवर्धन
कोरोना वायरस से लड़ने वाली दवा कोरोनील बनाने का दावा कर दुनिया में तहलका मचा देने वाले बाबा रामदेव तथा उनकी कंपनी पतंजलि पर उठा विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा। इस बारे में दवा घोषित होने के कुछ ही घंटों बाद आयुष मंत्रालय ने बैन भी लगा दिया। इस बारे में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने इतना ही कहा कि इस मामले की जांच आयुष मंत्रालय कर रहा है। मुझे मालूम चला है कि आयुष मंत्रालय ने बाबा रामदेव से कोरोना की दवा के बारे में पूरी जानकारी हासिल कर ली है। इस तरह स्वास्थ्य मंत्री ने कोई भी विवादास्पद बयान देने से अपने आपको बचा लिया। पतंजलि को फिलहाल कोई राहत नहीं मिल पाई है। उल्लेखनीय है कि कोरोनील की लॉन्चिंग के बाद से ही कई राज्यों ने बैन कर दिया है और रामदेव सहित उनके सहयोगियों के खिलाफ केस भी दर्ज करा दिया है।

हेमंत सोरेन ने लोकप्रियता में बाजी मारी
झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्रियों की तुलना में लोकप्रियता में सबसे आगे रहकर बाजी मार ली है। हेमंत को मुख्यमंत्री का ताज पहने अभी छह माह ही हुए हैं। इस अवधि में उन्होंने सोशल मीडिया में अपने फालोअर्स की संख्या में उल्लेखनीय बढोतरी की है। छह माह पहले जब हेमंत ने सीएम पद की शपथ ली तब ट्वीटर पर उनके 32 हजार फॉलोअर थे जो बढ़कर पिछले छह माह में 3.95 लाख (13 गुना अधिक) हो गए है। इधर, फेसबुक पर भी उनके फॉलोअर लगातार बढ़ रहे हैं। वर्तमान में फेसबुक पर इनके कुल 4.42 लाख फॉलोअर हो गए हैं। आंकड़े बताते हैं कि पूर्व मुख्यमंत्रियों की तुलना में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा लोकप्रिय सीएम हैं।

Related Articles